मेरी भोली दीदी बड़ी चुदक्कड़

दोस्तों, मेरी यह पहली कहानी है । सबसे पहले में आपको अपना परिचय करा देता हूँ, मेरा नाम आकाश और मेरी उम्र 23 बर्ष है, मेरे परिवार में मेरी एक बहन जिसका नाम आकांक्षा है जोकि 25 बर्ष की है दिखने में बो भोली भाली सी लड़की है मुझे नही लगता कि उसका कोई बॉयफ्रेंड होगा लेकिन उसकी बॉडी शेप काफी अच्छी है उसका फिगर 342834 का है और बाकी मेरे माँ पिताजी है । माँ हाउस वाइफ है, पिताजी सरकारी विभाग में अफसर है और यूपी के छोटे शहर से बिलोंग करता हूँ मुझे अपनी दीदी के बदन को निहारने और छूने का ख्याल पहली बार इन्टरनेट पर एक कहानी पढ़कर आया था और उसके बाद से में मुठ मारने के लिये या तो दीदी का फोटो देखता या उनकी ब्रा और पैंटी को सूँघता कभी कभी जब दीदी की पैंटी और ब्रा नही मिलती तो डस्टबीन से उनके गंदे सेनेट्री पैड को भी निकाल लेता धीरे धीरे दीदी के प्रति मेरा आकर्षण इस कदर बढ़ गया कि में उनको चोदने के सपने देखने लगा कई बार तो मैने उनको रात में सोते सोते ही सपनो में चोद भी दिया वैसे हम रात को एक कमरे में ही सोते थे लेकिन माँ-पिताजी के डर से दीदी के बदन को छूने की हिम्मत नही कर पाया जैसे ही मेरी ग्रेजुएशन की पढाई कम्पलीट हुयी तो घरवालो ने सिविल सर्विवेस की तैयारी करने के लिए दिल्ली भेज दिया दिल्ली जाते समय मुझे बहुत बुरा लग रहा था लेकिन मेने जाते जाते दीदी की दो पुरानी पैंटी अपने साथ रख ली और उस रात जब दीदी सो रही थी तो मैने लाइट ऑन करके उनकी गांड और बूब्स की फोटो ली दीदी कपड़े पहने हुए थी लेकिन मुझे बो फोटो काफी हॉट लग रही थी फिर लाइट बन्द करके सो गया अगले दिन दिल्ली पहुँचा तो वहाँ जाकर रहने लगा और जब मुठ मारने का मन करता तो दीदी की पैंटी निकाल कर मुठ मार लेता लेकिन 1 महीने बाद ही में बीमार पड़ पता चला कि मुझे डेंगू हो गया है । जब मैने घर बताया तो घर से माँ-पिताजी और दीदी अगले दिन मेरे पास आ गए 2/3 दिन मेरा इलाज चला उसके बाद में नार्मल हो गया उसके बाद माँ और पिताजी चले गये लेकिन दीदी को मेरी देखभाल के लिए छोड़ दिया मुझे मन ही मन अलग सी खुसी हुई जैसे में दीदी को आज ही चोदने वाला हूँ खाना बनाने के लिए बायी आती थी जिसे मेने हटा दिया और खाना दीदी ही बनाने लगी जब में कोचिंग जाता तो उस समय दीदी का टाइम पास नही हो पाता था तो दीदी ने मेकअप आर्टिस्ट का कोर्स ज्वाइन कर लिया दिल्ली में रहकर न जाने दीदी को कौन सी हवा लगी की बो बहुत ज्यादा सेक्सी लगने लगी मॉडर्न कपडे पहनने लगी अब तो रोज रात को में उन्हें देखकर मुठ मारता अब उनकी पैंटी मुझे खोजनी नही पड़ती थी एक दिन मुठ मारते हुए मेरे मन में बिचार आया क्यों न में दीदी के नंगे बदन को देखने के लिए कुछ प्रयास करू तभी मैंने 2 स्पाई कैम आर्डर किये और जब बो आ गए तो एक बाथरूम में लगा दिया और दूसरा टॉयलेट रूम में लगा दिया अगले दिन दीदी के नहाने के बाद मेने दोनों कैमरे निकाले और उनको लैपटॉप से कनेक्ट करके देखने लगा उसमे सबसे पहले मेने देखा दीदी रात को मेरे सोने के बाद फ़ोन लेकर जाती है और दीदी बीडियो कॉल पर किसी से बात कर रही है उसे अपना नंगा बदन दिखा रही है बो चूचियों को कैमेरे पर ऐसे लगाती है जैसे अपने बूब्स उसके मुँह में डाल रही हो इसे देखकर में पागल होने लगता हूँ और में लंड हाथ में लेकर जोर से हिलाता हूँ मन में सोच लेता हूँ कि अब तो इसको चोदकर ही मानूँगा मुठ मारने के बाद कैमरा फिर से लगा देता हूँ अगले दिन रात में फिर से चेक करता हूँ में थोड़ा फ़ास्ट फॉरवर्ड करता हूँ मुझे टॉयलेट बाले कैमरे में एक आदमी पेशाब करता हुआ दिखाई देता है फिर जब में बाथरूम वाली वीडियो देखता हूँ तो उसी आदमी के साथ मुझे अपनी बहन नंगी बाथरूम में घुसती हुयी दिखाई देती है बो आदमी दिखने में कोई बॉडी बिल्डर नजर आ रहा था मेरी दीदी उसके सामने बच्ची लग रही बो दोनों शावर ऑन करके नंगे नहाने लगते तभी वही आदमी दीदी को जमीन पर लिटाता है और अपना लंड दीदी के मुँह में डालता है दीदी किसी रंडी की तरह उसका लंड चूसती है बो दोनों फिर लेट जाते है और 69 की पोजीशन में आ जाते है 5 मिनट बाद दोनों डिस्चार्ज होकर बाहर चले जाते उसके बाद उन्होंने बैड पर सेक्स किया था ये मुझे दीदी ने ही बताया बाद में। ये देखकर मुझे बहुत गुस्सा आती है में उसे मन ही मन गाली देता हूँ साली कुतिया जिसके लिए में सालो से तड़प रहा था बो जाने किस कुत्ते से चुदवा रही है फिर में उसे चोदने का प्लान बनाता हूँ और अपना पहला कदम उठाता हूँ में उसकी एक नयी पैंटी निकाल कर उसमें मुठ मारता हूँ और अपना बीर्य गिराकर अपने बेड पर रख लेता हूँ सुबह बो मुझे गुस्से में उठाती है मेरे उठते ही बो अपनी पैंटी के बारे में पूछती है तो उससे में कह देता हूँ हाँ बो मेरा ही स्पर्म हैं और मैने ही निकाला है में कई साल से तुझपर फ़िदा था तेरे शरीर को पाना चाहता था और उसे बो दो पैंटी भी दिखा देता जो में दिल्ली आया था तब ले आया था और में उससे कहता हूँ लेकिन तू तो रंडी निकली ये बात सुनकर बो मेरे थप्पड़ मार देती है पापा को फ़ोन करने के लिए फ़ोन निकालती है तभी में उससे कहता हूँ दीदी ज्यादा सती सावित्री मत मन जरा अपने कारनामे भी देख ले और में लैपटॉप में उसकी वीडियो चला देता हूँ वीडियो देखने के बाद रोने लगती है क़ि घर पर मत बताना तुम चाहे मेरी पैंटी से कुछ कर लो चाहे मेरे साथ सेक्स कर लो और में उसे गोदी में उठा लेता हूँ और अपने रूम में ले जाकर उसे बेड पर फेंक देता हूँ और उसके कपडे फाड़ देता हूँ ब्रा और पैंटी को भी फाड़ देता हूँ और हम दोनों फ्रेंच किश करने लगते है हम एक दूसरे की जीभ को चूसते है 5 मिनट की किश करने के बाद में उसके सेक्सी मम्मे चूसने लगता हूँ थोड़ी देर चूसने के बाद में उसकी चूत चाटने की इच्छा जताता हूँ तो बो 69 पोज़ में आ जाती है दोस्तों जीवन में पहली बार सेक्स कर रहा था बो भी अपनी सगी बहन के साथ तो में ज्यादा उत्तेजित हो गया था मेरीे दीदी मेरे लंड के सुपारे को किस करती है और चूसने लगती है में उसकी चूत चाटने में लग जाता हूँ उसकी चूत से बहुत सारा पानी निकल रहा था में उसे पीकर साफ करे जा रहा था, थोड़ी देर की चुसाई में मेरा लैंड पिचकारी छोड़ देता है और मेरी बहन मेरे बीर्य को निगल जाती है और मुझे किस करती है थोड़ी देर किस करने के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा होने लगता है में दीदी से कहता हूँ तू तो बाकई रंडी है मुझे अब अपनी चूत का मजा चखने दे तो बो हँसने लगती है और कहती है कि तू भी पूरा बहनचोद है साले रोज अपनी बहन पर मुठ मारता था अब चोद ले मुझे में अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगता हूँ और अपनी 3 ऊँगली दीदी की चूत में डाल देता हूँ जिससे दीदी बेचैन होकर गाली देती है चोद बहनचोद में उँगलियो को निकालकर अपना लंड दीदी की चूत में डालता हूँ और दो ठोकर में लंड दीदी की चूत में घुसेड़ देता हूँ और दीदी उम्ममम्म हहहह आह आआहह करके चुदवाने लगती है में उसे ले रंडी आह आह अह उम की आवाज के साथ चोदता हूँ पूरे रूम में हमारी आवाज गूंजने लगती है 15 मिनट की चुदाई के बाद दीदी डिसचार्ज हो जाती है और मेरा भी दीदी दीदी, आह दीदी कहते वीर्य निकल जाता है उस दिन में उसे 5 बार चोदता हूँ टॉयलेट में लेजाकर भी चोदता हूँ उस दिन हम पूरे दिन चुदाई करते रहे रात को बाहर खाना खाने गए दीदी ने कहाँ कि मुझे हर दिन चुदवाने का दिल करता है घर पर थी सारा दिन तो कभी सारी रात चुदवाती थी तो दो बार उसने गर्भ भी धारण कर लिया था जिसे दवाओं से गिरवाना पड़ा था एक बार माँ को भी मालूम पड़ गया था इसलिए तब बो बाहर नही जाने देती थी उससे मेने पूछा अभी तक किस किस ने चोदा है तुझे तो उसने बताया बो जब 12बी क्लास में थी तो उसे एक टीचर रोज चोदता था उसी ने उसकी सील तोड़ी थी फिर एक दिन टीचर के साथ सेक्स करते प्रिंसिपल ने देख लिया तो उसने भी चोदा बो बोली तुम्हारे दोस्तों ने निखिल और वक़ार ने भी चोदा है उन्ही में किसी ने प्रेग्नेंट किया होगा वैसे वक़ार जैसा मस्त कोई नही चोदा घंटो चोदता था उसने गांड मारी थी मेरी दोस्त के घर का बहाना कर के होटल में डली रही थी बेहोश कर दिया था कुत्ते ने फिर जब माँ को प्रेग्नेंट होने का पता चल गया तो बाहर नही जाने देती थी तो रोज पड़ोस में जाकर अंकल जी के दो लड़को से चुड़वाती थी दिल्ली जब से आयी है तबसे 5 लड़को से चुदवा चुकी है और कम से कम अबतक 20 लोगो से चुदी होगी । मुझे जानकर खुसी हुयी क्योंकि मेरी सबसे बड़ी फैंटसी थी कि में उसे ग्रुप में चोदू लेकिन ये भी चाहता था पहली बार में ही सील तोड़ू जोकि मेरा सपना ही रह गया लेकिन ग्रुप सेक्स करने के रास्ते खुल गए उसकी बातें सुनते सुनते मेरा लंड खड़ा हो चुका था होटल में मैने एक रूम बुक किया और एक वाइन की बॉटल मंगाई जिसे मेने उसके शरीर पर डालकर चाट चाट कर पिया और उसे दारु पिलाई और टीवी पर पोर्न चालू किया और उसकी गांड में लंड दिया तो बो चिंहुक गयी क्योंकि उसकी गांड सिर्फ 2 बार मरी थी जोकि साल भर पहले तो इस वजह से टाइट थी शराब के नशे में मैने जोर लगा दिया तो बहुत तेज चीखी मेने कहा रांड भाई लंड लेने में चीखती है वक़ार का तुरंत ले लेती है दीदी — भाई धीरे कर में किसी को अपनी गांड मारने नही देती हूँ बस वक़ार ने ही मारी है और में उसे गलियां देकर चोदता रहा फिर जब हमने चेक आउट किया तो दीदी चल नही पा रही तो मैने तुरंत होटल के बाहर कैब मंगा ली दीदी को सहारे देते हुए कैब में बिठाया जब पेमेंट करने पहुँचा तभी एक आदमी ने पूछा सर्विस थी क्या मेने हाँ में इशारे कर दिया बोला मॉल कड़क है यार और में हँसते हुए चला आया और अगले ही दिन मेरी एक परीक्षा का रिजल्ट आया मेरी जॉब लग गयी थी इसी खुसी में हमने होटल में जाकर चुदाई की । कुछ दिनों बाद मेने उसे कैसे ग्रुप में चोदा ये आपको अगली कहानी में बताऊंगा ।

मेरी कहानी आपको कैसी लगी मुझे ईमेल पर बताइये

—- [email protected]

Comments